JAC-class-9th-and-11th-exam-date-2022

JAC Board 10th 12th Marking(Result) Criteria 2021 | JAC 10th 12th Results Date 2021

JAC Board 10th 12th Marking(Result) Criteria 2021 | JAC 10th 12th Results Date 2021

Jac board marking criteria 2021

JAC Board 10th 12th Marking(Result) Criteria 2021 | JAC 10th 12th Results Date 2021

झारखण्ड अधिविद्य परिषद , राँची वार्षिक माध्यमिक एवं इंटरमीडिएट परीक्षा , 2021 के परीक्षाफल निर्माण हेतु आवश्यक दिशा – निर्देश :

कोविड -19 के प्रसार के कारण राज्य सरकार द्वारा वार्षिक माध्यमिक एवं इंटरमीडिएट परीक्षा , 2021 रद्द करने का निर्णय लिया गया है । राज्य सरकार द्वारा परीक्षा रद्द किए जाने के पश्चात् परिषद् द्वारा बिना परीक्षा आयोजन किए ही परीक्षाफल प्रकाशित किया जाना वांछित है । परीक्षाफल निर्माण करने के लिए संबंधित छात्र / छात्राओं को सैद्धान्तिक(External Exam) एवं प्रायोगिक / आन्तरिक मूल्यांकन का अंक विषयवार आवंटित किया जाएगा । निर्धारित नीति एवं प्रक्रियाओं के अनुसार छात्र / छात्राओं को विषयवार सैद्धान्तिक परीक्षा के लिए अंक परिषद् द्वारा कक्षा 09 एवं 11वीं की परीक्षा के आधार आवंटित किया जाएगा तथा प्रायोगिक परीक्षा एवं आन्तरिक मूल्यांकन के लिए अंक विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर आवंटित किए जायेंगे । इस प्रक्रिया में क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक , जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर किए जानेवाले कार्यो का आवंटन निम्नवत् रुप में किया जाता है :

* विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर क्रियान्वय को:

ऐसे मिलेगा विद्यार्थियों को नंबर/रिजल्ट

> विद्यालय / महाविद्यालय द्वारा वार्षिक माध्यमिक / इंटरमीडिएट परीक्षा , 2021 में सम्मिलित हो रहे छात्र / छात्राओं विषयवार प्रायोगिक / आन्तरिक मूल्यांकन का अंक आवंटन किया जाएगा ।

> प्रायोगिक विषय में अंकों का आवंटन उनके पूर्णाक के अनुरुप होगा ।

> जिन छात्र / छात्राओं के द्वारा प्रायोगिक परीक्षा में भाग नहीं लिया गया है , उन छात्र – छात्राओं की परीक्षा ( प्रायोगिक ) आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा निर्गत कोविड -19 के Guideline के तहत ली जा सकेगी ।

> अप्रायोगिक विषय के लिए आन्तरिक मूल्यांकन का प्रावधान किया गया है । विषयवार आन्तरिक मूल्यांकन 20 अंकों के होंगे एवं इसका आवंटन भी विद्यालय / महाविद्यालय द्वारा किया जाएगा ।

» आन्तरिक मूल्यांकन के लिए विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर एक समिति का गठन किया जाएगा , जो अंकों का आवंटन निम्नलिखित आधार पर कर सकेंगे : 

>विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर कक्षा 10 वीं / 12 वीं में कक्षाओं के संचालन के समय छात्र – छात्राओं का प्रदर्शन ।

>परिषद् द्वारा जारी किए गए मॉडल प्रश्न पत्र के आधार पर लिए गए आन्तरिक परीक्षा में प्रदर्शन । ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन में छात्र – छात्राओं का प्रदर्शन ।

>विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर लिए गए आन्तरिक परीक्षा में छात्र – छात्राओं का प्रदर्शन ।

>कक्षा 09/11 में छात्र / छात्राओं की उपस्थिति तथा उस समय का प्रदर्शन ।

>कक्षा 09/11 में मासिक / त्रै – मासिक / अद्धवार्षिक परीक्षा में प्राप्तांक ।

>कक्षा 09/11 का आन्तरिक मूल्यांकन ।

समिति का स्वरुप निम्नवत् होगा :  

( 1 ) विद्यालय / महाविद्यालय के प्रधानाध्यापक / प्राचार्य-अध्यक्ष

( 2 ) विद्यालय / महाविद्यालय के वरीय शिक्षक-सदस्य ( 3 ) जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा नामित निकटतम सदस्य विद्यालय / महाविद्यालय के एक शिक्षक

( 4 ) जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा उनके प्रतिनिधि प्रेक्षक सदस्य ( Observer ) के रुप में नामित पदा 0 / शिक्षक

» समिति के तीन सदस्यों द्वारा आन्तरिक मूल्यांकन के अंक का आवंटन किया जाएगा । प्रेक्षक की जिम्मेवारी आन्तरिक मूल्यांकन के कार्यों को नियमानुकूल ससमय सम्पादित कराने की होगी ।

» छात्र / छात्राओं के आन्तरिक मूल्यांकन , प्रायोगिक परीक्षा अथवा दोनों के अंकों के आवंटन के बाद इसे परिषद के वेबसाईट www.jac.jharkhand.gov.in पर Enter करना होगा ।

»अंकों के ऑनलाइन Submission के पश्चात् वेबसाईट से Consolidated list ( दो प्रतियों में ) download कर प्रिन्ट करना होगा । प्रिन्ट Consolidated list समिति ( प्रेक्षक को छोड़कर ) के द्वारा हस्ताक्षरित किए जायेंगे ।

»Consolidated list की हस्ताक्षरित प्रति जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय में जमा करना होगा तथा एक प्रति विद्यालय / महाविद्यालय अपने संस्थान में सुरक्षित रखेंगे । »अंकों के ऑनलाइन संधारण के समय विशेष सतर्कता बरतना आवश्यक है । एक बार अंतिम रुप से सबमिट ( Final submit ) किए जाने के पश्चात् अंकों में किसी तरह का परिवर्तन नहीं किया जा सकता है और न ही परिषद् स्तर पर इसमें किसी भी तरह का परिवर्तन / सुधार सम्भव हो सकेगा ।

» यदि विद्यालय / महाविद्यालय स्तर से किसी छात्र / छात्रा का आन्तरिक मूल्यांकन या प्रायोगिक परीक्षा का अंक ऑनलाईन सबमिट नहीं किया जाता है तो उसे अनुपस्थित मानते हुए नियमानुसार परीक्षाफल तैयार किया जाएगा ।

» वैसे छात्र / छात्राएँ , जो इस परीक्षाफल से असंतुष्ट होंगे , उन्हें आगामी होने वाली परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर प्रदान किया जाएगा , परन्तु उन्हें इस हेतु वर्तमान परिप्रेक्ष्य में निर्मित परीक्षाफल के लिए निर्गत प्रमाण पत्रों की मूल प्रति परिषद् में जमा करनी होगी तथा इस आशय का शपथ पत्र देना होगा कि उनका यह परीक्षाफल रद्द कर दिया जाय तथा आगामी परीक्षा में उन्हें जो भी परीक्षाफल निर्गत होंगे , वह मान्य होगा ।

» Ex – regular छात्र / छात्राओं , जो पहली बार इस परीक्षा में सम्मिलित हो रहे हैं , भी प्रायोगिक परीक्षा , आन्तरिक मूल्यांकन अथवा दोनों आयोजित किया जाएगा ।

»पुनर्पजीकृत ( Re – registration ) होने वाले छात्र / छात्राओं के लिए किसी भी प्रकार के अंकों का आवंटन नहीं किया जाएगा । उनके परीक्षाफल का निर्माण उनके द्वारा पूर्व के वर्षों में भाग लिये गये परीक्षाओं में प्राप्त किए गए अंकों के आधार पर किया जाएगा ।

जिला शिक्षा पदाधिकारी के स्तर पर क्रियान्वयन :

> विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर प्रायोगिक / आन्तरिक मूल्यांकन / दोनों का कार्य ससमय सम्पादित कराने का दायित्व जिला शिक्षा पदाधिकारी की होगी ।

> आन्तरिक मूल्यांकन के लिए अंकों के आवंटन हेतु विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा एक समिति का गठन किया जाएगा ।

> समिति का स्वरुप निम्नवत् होगा :

( 1 ) विद्यालय / महाविद्यालय के प्रधानाध्यापक / प्राचार्य-अध्यक्ष

( 2 ) विद्यालय / महाविद्यालय के वरीय शिक्षक-सदस्य ( 3 ) जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा नामित निकटतम विद्यालय / महाविद्यालय के एक शिक्षक

( 4 ) जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा उनके प्रतिनिधि प्रेक्षक – सदस्य ( Observer ) के रुप में नामित पदा ० / शिक्षक > जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा नामित प्रेक्षक का दायित्व आन्तरिक मूल्यांकन का कार्य नियमानुकूल तरीके से ससमय सम्पादित कराने का होगा।

> अन्य तीन सदस्य आन्तरिक मूल्यांकन के कार्य के लिए उत्तरदायी होंगे ।

> अंकों के ऑनलाइन सबमिट के पश्चात् निकाले गए Consolidated list पर उपर्युक्त तीन सदस्यों के हस्ताक्षर होंगे , जो यह सुनिश्चित करेंगे कि आन्तरिक मूल्यांकन का कार्य नियमानुसार सम्पादित किया गया है ।

> जिला शिक्षा पदाधिकारी , समिति द्वारा हस्ताक्षरित Consolidated list की एक प्रति अपने कार्यालय में संधारित करेंगे , ताकि यदि भविष्य में परिषद् को इसकी आवश्यकता होती है तो इसे परिषद् को उपलब्ध कराया जा सके ।

Download Official Jac board 10th 12th marking criteria 2021:

> जिला शिक्षा पदाधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि समिति द्वारा कार्यो का सम्पादन ससमय किया जा रहा है , ताकि निर्धारित समयावधि में अंकों का ऑनलाइन संधारण हो सके ।

क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक स्तर पर क्रियान्वयन : >विद्यालय / महाविद्यालय स्तर पर प्रायोगिक / आन्तरिक मूल्यांकन / दोनों के कार्य ससमय सम्पादित हो , इसका पर्यवेक्षण क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक द्वारा किया जाएगा ।

> क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक अपने प्रमण्डल के जिला शिक्षा पदाधिकारियों से समन्वय स्थापित कर प्रायोगिक परीक्षा / आन्तरिक मूल्यांकन के कार्यों की समीक्षा करेंगे ।

One thought on “JAC Board 10th 12th Marking(Result) Criteria 2021 | JAC 10th 12th Results Date 2021

Post Your Comments